देश के गरीब किसानों से

कहनी है एक बात हमें देश के गरीब किसानों से

कहनी है एक बात हमें देश के मजदूर जवानों से

कष्टों की पहनी माला तुमने, तन माटी में मिला गये

पृथ्वी माँ से प्यार किया और पृथ्वी माँ में समा गये

सोते खेत जगा कर तुमने वहाँ पर अन्न उगाए

Continue reading “देश के गरीब किसानों से”

Advertisements

पापा की कलम

शब्द मेरे पापा के होंगे

मैं पापा की कलम बनूँगी

रचना होगी मेरे पापा की

फिर मैं रचना खूब लिखूँगी

ईर्ष्या, द्वेष और नफरत को

Continue reading “पापा की कलम”

नेता

नेता नहीं शासक हैं ये

प्रशासक नहीं शोषक हैं ये

नेता तो जनता का नेतृत्व किया करते हैं

ये शासक हैं जनता पर राज किया करते हैं

कहने को तो देश सबसे बड़ा लोकतंत्र है

Continue reading “नेता”