एक मिन्नत

दलित और शोषितों से,

पिछड़े और पीड़ितों से,

है यही मिन्नत मेरी,

उठो होश में आओ,

जागी है किस्मत तेरी

Continue reading “एक मिन्नत”

Advertisements