ऐसा साहित्य लिखो

ऐसा साहित्य लिखो,

भिक्षु को देखो ।

वह जाता,

दो भाग कलेजे के करता, पछताता पथ पर जाता ।

आँत, पेट, पीठ मिलकर हैं एक,

Continue reading “ऐसा साहित्य लिखो”